दलित , आदिवासी एवं पिछड़े भी अपनी बर्बादी के लिए जिम्मेदार

भारत पेट्रोलियम कारपोरेशन लिमिटेड के 15 हजार पेट्रोल पम्प हैं जिसे सरकार बेंचने पर अमादा है, इस कम्पनी ने पिछले 5 साल में 35182 करोड़ मुनाफ़ा कमाया है और सरकार को 19603 करोड़ का टैक्स भी दिया है | 2017 में सरकार ने महारत्न कम्पनियों में शामिल किया है | बाजार मूल्य इसका 1 लाख करोड़ है और सरकार की साझीदारी 53.3 है अतःसरकार के पास मालिकाना हक है | अधिक से अधिक 65 हजार करोड़ में बेंचा जाएगा | सरकार ऐसा इस्लियी करना पड़ा कि हाल में उसको बड़े पूंजीपतियों का 1 लाख ४५ हजार करोड़ का टैक्स माफ़ किया है | खरीदने वाला और मुनाफा अकमाने का कोशिश करेगा तो
ऐसे में वर्तमान कर्मचारी की छटनी होगी और पहला निशाना दलित आदिवासी और पिछड़े ही होंगे | वर्तमान में जो कर्मचारी 1 लाख से अधिक पा रहे हैं उनके स्थान पर 10-15 हजार वेतन पर कर्मचारी रख लिए जायेंगे | आश्चर्य है कि अनुसूचित जाति/जनजाति के कर्मचारी भी चुप लगाये बैठे हैं | सरकार अगर ऐसा कर रही है तो इसमें दलित, आदिवासी और पिछड़े समाज का भी योगदान है क्योंकि ये सड़क पर नहीं निकल रहे हैं | पेट – पालतू , स्वार्थी , अहंकारी , बन गये हैं | अगर बचाना है तो 1 दिसम्बर 2019 को रामलीला मैदान , नईदिल्ली रैली में शामिल होने या सहयोग करने के लिए अपना नाम, मोबाईल नं व स्थान व्हाट्सएप 9899766443 करें |

नोट – आपसे आग्रह है कि जिस भी रूप में आप रैली को सफल बनाने में सहयोग दे सकते हैं हमें मैसेज करें आपका मैसेज स्वयं डॉ उदित राज पढेंगे और बात भी करेंगे | कई प्रकार के सहयोग दिए जा सकते हैं जैसे कि कितनी संख्या में रैली में आप उपस्थित होंगे या रैली के तयारी हेतु कोई बैठक करा सकते हैं | किसी को जोड़ सकते हैं या कोई सुझाव , आर्थिक सहयोग के लिये परिसंघ का खाता संख्या – 30899921752 (State Bank of India) दिया जा रहा है |

Add Your Comment