डॉ. उदित राज ने लोकसभा में 4 प्राइवेट मेंबर बिल प्रस्तुत किये



डॉ. उदित राज ने आज लोकसभा में 4 प्राइवेट मेंबर बिल, निजी क्षेत्र में रिश्वत का निवारण विधेयक, 2018, कामकाजी महिलाएं (बुनियादी सुविधाएं और कल्याण बिल),2018, महिलाओं के लिए विशेष अदालत बिल, 2018 और तलाकशुदा महिला कल्याण बिल,2018 प्रस्तुत किये | डॉ. उदित राज ने कहा कि रिश्वत की समस्या बेहद चिंताजनक स्तर पर पहुँच गयी है | अनुमानतः सकल घरेलू उत्पाद का एक महत्वपूर्ण अनुपात सरकारी और निजी क्षेत्र के कार्यालयों में इस व्यापक भ्रष्टाचार के कारण नष्ट हो जाता है | इसलिए, रिश्वत से न केवल लोगों के मानस को चोट पहुँचती है बल्कि इससे आर्थिक विकास को भी बाधा पहुँचती है | इसके अलावा, यह समस्या गरीबों के लिए अधिक कष्टदायक है क्योंकि वे समाज के सर्वाधिक कमजोर वर्ग के हैं | इसके अतिरिक्त डॉ. उदित राज ने कामकाजी महिलाएं (बुनियादी सुविधाएं और कल्याण बिल पर कहा कि देश में लड़कियों की आबादी बेहद असंतुलित और कमजोर महिलाओं के प्रति समाज के रूढ़िवादी दृष्टिकोण के बावजूद, अधिक से अधिक महिलाएं अपने घरों से अपने परिवारों के मदद हेतु काम कर रही हैं। नतीजतन, सरकारी सेवाओं, कारखानों, उद्योगों, वाणिज्यिक प्रतिष्ठानों, कृषि, खानों, मछली प्रसंस्करण क्षेत्र, रेशम उद्योग में काम करने वाली महिलाओं की संख्या दिन-प्रतिदिन बढ़ रही है, लेकिन रोजगार के परिस्थितियों में सुधार की जरूरत है। सरकार और निजी निजी क्षेत्र में काम करने वाली महिलाओं को विभिन्न बुनियादी और आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध कराई जानी चाहिए | वहीँ तीसरे बिल महिलाओं के लिए विशेष अदालत के विषय पर डॉ. उदित राज ने कहा कि हमारे समाज में, महिलाओं के खिलाफ अत्याचार दिन-प्रतिदिन बढ़ रहे हैं जिसके परिणामस्वरूप महिलाओं के खिलाफ अत्याचार के मामले अदालत में उभर रहे हैं। जब तक अदालतें अपना निर्णय देती हैं, तब तक महिलाओं का जीवन दुखी हो जाता है। सामान्य अदालतों के मामलों का फैसला करने के में लंबा समय लगता है। इसलिए, महिलाओं के लिए विशेष रूप से मामलों से निपटने के लिए विशेष अदालतें स्थापित करने का प्रस्ताव है। अंतिम बिल तलाकशुदा महिला कल्याण पर डॉ. उदित राज ने कहा कि हमारे देश में पुरुषों और महिलाओं के बीच तलाक की आर्थिक विधियों के बीच बड़ी असमानता है। पुरुष अपेक्षाकृत अप्रभावित रहते हैं जबकि महिलाओं, विशेष रूप से बच्चों के साथ, "खुद को और उनके बच्चों के लिए भोजन, कपड़े और आश्रय प्रदान करने में कठिनाई का सामना करना पड़ता है"। एक महिला अपने परिवार पर इसलिए भी भरोसा नहीं कर पाती है क्योंकि कई माता-पिता महसूस करते हैं कि उन्होंने बेटी की शादी करके और दहेज़ देकर अपनी बेटी के दायित्व से सदा के लिए मुक्त हो गए हैं | ऐसी स्थिति में महिला के लिए अपने ही घर में रहना मुश्किल हो जाता है |

HIGHLIGHTS

Facebook

Tweets

Instagram