उदित राज ने उपराज्यपाल से की मुलाकात



नई दिल्ली, 21 जुलाई 2017 लोकसभा सांसद डॉ. उदित राज ने आज दिल्ली के उपराज्यपाल श्री अनिल बैजल से उनके निवास पर मुलाकात की | डॉ. उदित राज ने क्षेत्र से सम्बंधित लगभग 12 मुद्दों पर उपराज्यपाल के साथ चर्चा की | जिसमें से अधिकतर मामले डीडीए से सम्बंधित है जिसमे एक प्रमुख मुद्दा यह रहा कि जो मजदूर ठेकेदारी पर काम कर रहे है उन्हें पूरा पैसा नहीं मिल रहा है उनको ठेकेदार के द्वारा यह भी धमकी दी जा रही है कि यदि कोई भी मजदूर अपने वेतन का कुछ हिस्सा नहीं देगा उसे काम से निकाल दिया जायेगा | जिसको लेकर उपराज्यपाल जी ने तुरंत प्रभाव से रिपोर्ट की मांग की है और जल्द से जल्द इस पर आवश्यक कार्यवाही करने का आश्वासन दिया है | वहीँ दूसरा ताहिरपुर गाँव का मामला सामने आया जिसमे गांववासियों की शिकायत है कि उनसे सरचार्ज लिया जा रहा है जबकि शहरी विकास मंत्रालय ने ताहिरपुर समेत 5 गाँव को सरचार्ज मुक्त किया हुआ है उसके बावजूद इस गाँव से यह पैसा वसूला जा रहा है | जिसपर उपराज्यपाल जी ने बताया कि इस मामले को भी उन्होंने संज्ञान में ले लिया है और जल्द ही इस पर कार्यवाही की जाएगी | इस तरह से लगभग 12 मामले उपराज्यपाल के समक्ष प्रस्तुत किये गए | मुलाकात करने के बाद वहां आये गांववासियों को डॉ. उदित राज ने कहा कि उनकी सभी समस्याओं पर सुनवाई कर ली गयी है और उपराज्यपाल ने भरोसा दिलाया है कि जल्द से जल्द उनके अंतर्गत आने वाले सभी समस्याओं का निदान कर दिया जायेगा |

वहीँ आज डॉ. उदित राज ने लोक सभा में शून्यकाल के दौरान बादली विधान सभा के अंतर्गत भलस्वा झील की सफ़ाई का मुद्दा उठाया जिसमे बताया कि उनके संसदीय क्षेत्र उत्तर पश्चिम दिल्ली के बादली विधान सभा में लगभग एक किलोमीटर लम्बी भलस्वा झील है, जिसके रखरखाव की जिम्मेदारी डी.डी.ए. की है लेकिन दशकों से इसकी सफाई नहीं हुई है। अनाधिकृत तरीके से कुछ माफिया उसमें मछली पालन इत्यादि का कार्य करते हैं, जिससे आस-पास के क्षेत्रों में गंदगी और बदबू के कारण लोगों को काफी परेशानी होती है। यह झील पर्यटन का अच्छा केन्द्र बन सकता है। इसमें स्थानीय निवासियों द्वारा कई प्रकार के वाटर गेम इत्यादि स्वयं के प्रयास से किए जाते रहते हैं।उन्होंने शहरी विकास मंत्री महोदय का ध्यान आकर्षित करते हुए निवेदन किया कि डी.डी.ए. के अधिकारियों को निर्देशित करें कि अतिशीघ्र उपरोक्त झील को साफ कराया जाए और इसे पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया जाए |

इसके अतिरिक्त डॉ. उदित राज ने आज लोकसभा में दो प्राइवेट मेम्बर बिल भी प्रस्तुत किये पहला बिल एससीटी/टीएसीपी से सम्बंधित पेश किया गया जिसके लिए उदित राज ने कहा कि दलितों और आदिवासियों के विकास को ध्यान में रखते हुए इनके विकास के लिए बजट में आवंटित धनराशि इन्ही पर खर्च हो वहीँ दूसरा बिल पीईएमएसआर में संसोधन से संबधित पेश किया गया |

HIGHLIGHTS

Facebook

Tweets

Instagram